Post

वकीलों ने एडवोकेट हरेन्द्र करसाना के समर्थन में कामकाज रखा बंद

PNN/ Faridabad: जिला बार ऐसोसिशन के वकीलों ने हरेन्द्र करसाना एडवोकेट समर्थन में काम-काज बन्द रखा, बार के महासचिव नरेन्द्र पारासर व अन्य पदाधिकारियों की एक बैठक हुई जिसमें सर्व सम्मति से वक्र्स सस्सपेंड रखने का निर्णय लिया गया. काम काज बन्द करने की जानकारी सभी पदाधिकारियों ने कोर्ट में दी और सुबह से ही भारी संख्या में वकील लॉबी में आकर बैठ गये और दोषियों के खिलाफ जल्दी से जल्दी कार्यवाही करने की मांग करते रहे।

सभी वकीलों ने एक अवाज में दोषियों को तुरन्त गिरफ्तार करने की मांग की गई. वकीलों ने आरोप लगाया कि हरेन्द्र करसाना व उसके बड़े भाई को जान से मारने की नियत से इन्ही के गांव के मनोज मागरिया व उसके भाईयों ने गोलियों से हमला किया जिसमें तीन गोली अधिवक्ता को लगी और दो गोली उसके भाई को लगी लेकिन अब भी हालत नाजुक बनी हुई है मनोज मागरिया ने केस बनवाने के लिए झूठी गोली अपने साथी को मार कर ऐशियन होस्पीटल में भर्ती करा दिया जो कि सरासर गलत है।

बार काउंसिल के पूर्व मनोनित सदस्य शिवदत्त वशिष्ठ एडवोकेट ने एवं बार के पूर्व प्रधान जे.पी. आधाना ने संयुक्त रुप से कहा कि दोषियों को तुरन्त गिरतार किया जाना चाहिए।

इस मौके पर बार के पूर्व प्रधान एन.के. गर्ग, प्रदीप परमार, सतबीर शर्मा, ललित बैंसला, जगदीश अधाना, वाईस चेयरमेंन भारत गर्ग, रविन्द्र भाटी, अजय भडाना, ब्रहमदत्त शर्मा, विजय शर्मा, धर्मेन्द्र, हेमराज कपासिया, दीपक खटाना, धर्मेन्द्र फागना, दीपक खटाना, प्रवीन कपासिया, सतपाल नागर, अनिल तौमर, सतीश चौहान, मुबिन खान, मनोज, पवन कौशिक, नरेन्द्र कौशिक, अशोक कुमार सहित सैकडो वकील मौजूद थे।

यह भी पढ़ें-

कोंग्रेसियो ने मनाई शहीद-ए-आजम भगत की 113वीं जयंती

Sharing Is Caring
Shafi-Author

Shafi Shiddique