Post

ऑनलाइन हेल्पडेस्क के माध्यम से करेंगे छात्रों की हर संभव मदद: कृष्ण अत्री

PNN/ Faridabad: कोरोना महामारी के प्रकोप को देखते हुए एनएसयूआई ने छात्रों की दाखिले संबंधी मदद करने के लिए ऑनलाइन हेल्प डेस्क शुरू की है। ऑनलाइन हेल्प डेस्क में छात्रों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किये है जिन नंबरों पर छात्र व्हाट्सएप्प या कॉल के माध्यम से दाखिला संबंधी जानकारी ले सकते हैं। इस हेल्प डेस्क का आयोजन एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश महासचिव कृष्ण अत्री के नेतृत्व में किया जा रहा हैं।

एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश महासचिव कृष्ण अत्री ने हेल्पडेस्क के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि हरियाणा कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्षा कुमारी सैलजा जी, राज्यसभा सांसद श्री दीपेंद्र सिंह हुड्डा जी, एनएसयूआई की राष्ट्रीय प्रभारी रुचि गुप्ता जी, राष्ट्रीय अध्यक्ष नीरज कुंदन जी के दिशानिर्देश पर छात्रों की मदद करने के लिए ऑनलाइन हेल्प डेस्क शुरू की हैं। ऑनलाइन हेल्प डेस्क के लिए जारी किये गए नंबर इस प्रकार है:- 9050509509, 8814972615, 7042333903, 8076831623, 9311072960 9999799020 इन सभी नम्बरों पर व्हाट्सएप्प या फिर कॉल करके जानकारी ले सकते हैं।

कृष्ण अत्री ने बताया कि एनएसयूआई एक ऐसा छात्र संगठन जो हमेशा छात्रों की मदद के लिए खड़ा रहता हैं। उन्होंने बताया कि इस तरह की हेल्प डेस्क का आयोजन हर वर्ष किया जाता हैं लेकिन अबकी बार कोरोना महामारी फैली हुई हैं तो छात्र कॉलेज ना आकर अपने घरों से ही ऑनलाइन फॉर्म भर रहे हैं इसलिए एनएसयूआई ने छात्रों के लिए ऑनलाइन हेल्पडेस्क शुरू की हैं।

कृष्ण अत्री ने बताया कि उच्चतर विभाग द्वारा जारी पत्र में प्रदेश के सभी कॉलेजों की परास्नातक कक्षाओं में दाखिला शुरू करने की जानकारी दी गई हैं। उच्चतर विभाग ने आज यानी 24 नवंबर से परास्नातक कक्षाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू कर दिए हैं और आवेदन करने की अंतिम तिथि 7 दिसंबर हैं। डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के लिए 27 नवंबर से लेकर 10 दिसंबर तक का समय रखा गया हैं। पहली मेरिट लिस्ट 14 दिसंबर को आएगी तथा 14 दिसंबर से लेकर 18 दिसंबर तक उन छात्रों को फीस भरने का मौका मिलेगा जिनका नाम प्रथम मेरिट लिस्ट में आएगा। इसके बाद 21 दिसंबर को ओपन कॉउंसिलग होगी और जो सीट खाली रह जाएंगी उनपर दाखिले होंगे।

यह भी पढ़ें-

स्कूल एसोसिएशन ने इस मांग के लिए मंत्री मूलचंद शर्मा को सौंपा ज्ञापन

Sharing Is Caring
Shafi-Author

Shafi Shiddique