Post

प्राइवेट स्कूलों की दुकान पर जल्द लगे लगाम: एल.एन पराशर

PNN/Faridabad: प्राइवेट स्कूलों का तानाशाही रवैया अब बर्दाश्त नहीं किया जाएगा उनके द्वारा जबरन की जा रही बसूली और जबरदस्ती बेची जा रही स्कूल की यूनिफार्म, बुक, पेंसिल, जूते अब नहीं खरीदी जाएंगी। प्राइवेट स्कूल वाले बच्चों को शिक्षा भी पैसों में तोल तोल कर दे रहे हैं जो कि बच्चों और उनके अभिभावकों के लिए सिर दर्द बन गई है। जिसे अब खत्म नहीं किया गया तो यह एक बहुत बड़ी समस्या बन जाएगी।

उक्त वाक्य बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एडवोकेट एलएन पराशर ने प्रेस वार्ता के दौरान कहे।
बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एडवोकेट एलएन पराशर द्वारा सरकारी स्कूल से तबेला बने एक स्कूल को फिर सरकारी स्कूल में बदल दिया गया । इस दौरान उन्होंने कहा कि बच्चों को उचित शिक्षा मिले इसके लिए वह समय-समय पर अनेक समाजसेवी कार्य करते है और आगे भी करते रहेंगे।जिसके चलते अब उन्होंने फरीदाबाद के अनेक छोटे-बड़े प्राइवेट स्कूलों पर सीधा निशाना साध लिया है।

वकील पराशर ने बताया कि उन्हें जानकारी मिली है कि नगर निगम फरीदाबाद और हुडा की जमीन पर बने दर्जनों निजी स्कूल नियम क़ानूनों की सरेआम धज्जियां उड़ाते दिखाई दे रहे हैं ।उन्होंने कहा कि ऐसे स्कूलों के खिलाफ कार्यवाही की मांग उन्होंने पीएम से की है क्यों कि हरियाणा के सीएम पर मुझे भरोसा नहीं है। उन्होंने बताया कि पिछले साल खट्टर साहब जी ने अभिभावकों से कहा था कि स्कूल वालों से समझौता कर लो जब वह समझौता ही करवाना चाहते हैं तो उन पर पर क्या भरोसा किया जाए।

उन्होंने कहा कि प्राइवेट स्कूल शिक्षा देने के बहाने अपना कारोबार खोले बैठे हैं। जिससे छात्रों को तो कोई फायदा नहीं है परंतु उनको बहुत मोटी कमाई मिल जाती है। पराशर ने कहा कि ये मोटी फीस तो लेते ही हैं कई तरह का अवैध शुल्क भी वसूलते हैं।

उन्होंने बताया कि तमाम निजी स्कूलों में न खेल की सुविधा न कम्प्युटर रूम सहित कई सुविधाएँ नहीं हैं लेकिन स्कूल वाले छात्रों से सारे शुल्क वसूलते हैं और दाखिले के समय भी मोटा डोनेशन लेते हैं। वकील पराशर ने कहा कि इनकी मनमानी देख लग रहा है कि सरकार भी इनसे मिली हुई है। उन्होंने फरीदाबाद की जनता से अनुरोध किया कि इस वसूली को रुकवाने में जनता सामने आये और अगर कोई निजी स्कूल अपने स्कूल में कॉपी किताब या अन्य चीजें बेंचे तो उन्हें सूचना दें।

वकील पराशर ने कहा कि जनता अगर उन्हें सूचित करेगी तो वह उन स्कूलों पर जबरन वसूली का मामला दर्ज करवाएंगे और उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की अपील करेंगे। वकील पराशर ने कहा कि उन्हें सूचना मिली है कि हर घर के लोग इनकी वसूली का शिकार हो रहे हैं और लोग अपने बच्चों के भविष्य को लेकर मजबूरन है जिस कारण कुछ कर नहीं पाते। इसलिए अगर उन्हें सूचित करेंगे तो वह इन पर तुरंत कार्यवाही करवाएंगे। उन्होंने कहा कि वह फरीदाबाद की लगभग 25 लाख जनता की भलाई के लिए काम करते हैं और जनता के साथ हो रही बड़ी लूट खसोट कोबरा है कदापि बर्दाश्त नहीं करेंगे।

Sharing Is Caring
Shafi-Author

Shafi Shiddique