Post

जे.सी. बोस विश्वविद्यालय एमबीए में दाखिले के लिए राज्यस्तरीय परीक्षा करेगा आयोजित

PNN/ Faridaba: जे.सी बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद शैक्षणिक सत्र 2020-21 में मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एमबीए) में दाखिले के लिए राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा आयोजित करने का निर्णय लिया है तथा दाखिले के लिए ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किये है। विश्वविद्यालय के एमबीए पाठ्यक्रम के लिए किसी भी संकाय से स्नातक उम्मीदवार आवेदन कर सकता है। ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि 30 मार्च, 2020 है। ऑनलाइन आवेदन विश्वविद्यालय की वेबसाइट के माध्यम से भरे जा सकते हैं।

विश्वविद्यालय द्वारा एमबीए के दो पाठ्यक्रमों की पेशकश की जाती है, जिसमें प्रत्येक में 60 सीटों का प्रावधान है। इनमें पहला एमबीए पाठ्यक्रम वित्तीय प्रबंधन, मानव संसाधन प्रबंधन और विपणन प्रबंधन में विशेषज्ञता के साथ है और दूसरा खुदरा प्रबंधन, वित्तीय प्रबंधन, अंतर्राष्ट्रीय व्यापार प्रबंधन और विपणन प्रबंधन में विशेषज्ञता के साथ है। इसके अलावा, विश्वविद्यालय बीबीए और एमबीए-एग्जीक्यूटिव पाठ्यक्रम भी चला रहा है। 

इस संबंध में जानकारी देते हुए, प्रबंधन अध्ययन विभाग के अध्यक्ष डॉ. आशुतोष निगम ने बताया कि एमबीए पाठ्यक्रम में दाखिले के लिए विश्वविद्यालय द्वारा 5 अप्रैल, 2020 को राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा आयोजित की जायेगी। प्रवेश परीक्षा के लिए परीक्षा केंद्र फरीदाबाद, रेवाड़ी, हिसार, करनाल और रोहतक में प्रस्तावित है। प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद उम्मीदवारों को ग्रुप डिस्कशन और पर्सनल इंटरव्यू सहित अन्य एडमिशन राउंड क्लियर करने होंगे। उन्होंने बताया कि दाखिले के लिए 70 प्रतिशत अंक वरीयता लिखित परीक्षा को दी जायेगी। इसके अलावा, ग्रुप डिस्कशन के लिए 20 प्रतिशत और इंटरव्यू के लिए 10 प्रतिशत अंक होंगे।

उन्होंने बताया कि किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से 50 प्रतिशत के साथ स्नातक की डिग्री या समकक्ष (हरियाणा के अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति के मामले में 45 प्रतिशत) उत्तीर्ण उम्मीदवार दाखिले के लिए पात्र हैं। हालांकि, अंतिम वर्ष के स्नातक या समकक्ष योग्यता परीक्षा में बैठने वाले उम्मीदवार अथवा ऐसे उम्मीदवार जिनका परिणाम प्रतीक्षित है, वे भी प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते है।

इस संबंध में विस्तृत जानकारी तथा विवरणिका विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है। 

Sharing Is Caring
Shafi-Author

Shafi Shiddique