Post

अमूल दूध से भरे टैंक को बाहर बेचने वाले नौ आरोपियों को क्राइम ब्रांच ने दबोचा

PNN/ Faridabad: क्राइम ब्रांच, एनआईटी इंस्पेक्टर जितेंद्र व उनकी टीम ने अमूल डेयरी के साथ धोखाधड़ी करने वाले नौ आरोपियों को दबोचने में कामयाबी हासिल की है। इनमें अमूल कंपनी के कई स्टाफ शामिल हैं। पुलिस के मुताबिक पकडे गए आरोपियों के पास से 80 लाख रूपए नगद बरामद किए हैं और इन सभी आरोपियों के खिलाफ सदर बल्लभगढ़ थाने में बीते 30 नवंबर को भारतीय दंड सहिंता की धारा 406 , 407 ,420 , 120 बी के तहत दर्ज किया गया था और इससे पहले भी पुलिस एक आरोपी को गिरफ्तार कर चुकी है।

इंचार्ज जितेंद्र यादव ने कहा कि सदर बल्लभगढ़ थाने में एक शिकायत दर्ज किया गया था जिसमें दूध से भरे टैंक को गायब करने अमूल कंपनी को लाखों रूपये की चुना लगाने का जिक्र किया गया था। जितेंद्र यादव ने कहा कि इस केस की आगे की कार्रवाई करने की जिम्मेदारी एनआईटी क्राइम ब्रांच को सौपी गई थी। जब उन्होनें इस केस की कार्रवाई शुरू की तो एक शख्स को उसी समय गिरफ्तार कर लिया गया था। उसने पूछताछ में पकड़े गए लोगों के नाम का खुलासा किया था। यादव ने कहा कि इसके बाद वह गुजरात गए और अमूल कंपनी में जब जांच शुरू की तो दूध घोटाले में एक -एक करके 9 स्टाफों की मिलीभगत पाई गई और उन्होनें 9 लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

पकड़े गए आरोपियों के नाम अशोक भाई निवासी गांव समुंद्रा, जिला बनसकट ,गुजरात, महेश निवासी सातवा गारी, हसनपुर ,पलवल , शैलेश निवासी गांव सरकारपुर ,जिला पाटन ,गुजरात, महेंद्र निवासी गांव सरकारपुर ,जिला पाटन,गुजरात , जितेंद्र उर्फ़ जीतू निवासी गांव काकोड,जिला बुलंदशहर ,उत्तरप्रदेश, अमृत निवासी गांव लश्मी पुरा , पालमपुर ,गुजरात , अजय उर्फ़ बुरा निवासी गांव मच्छगर,फरीदाबाद ,आरिफ निवासी गुंगरेला जिला हापुड़ ,उत्तरप्रदेश व भारत निवासी गांव टटोरा ,जिला बनसकता ,गुजरात हैं।

इंचार्ज जितेंद्र यादव ने बताया की उपरोक्त आरोपियों ने अमूल कंपनी में दूध से भरे हुए ट्रक को कागजों में ट्रक को खाली दिखा कर, इस तरह से 15 ट्रक भरे हुए दूध के 1 करोड़ 28 लाख रूपए में बेच दिए थे। यादव ने कहा कि पकडे गए आरोपियों से 80 लाख रूपए नगद बरामद किए गए हैं और इन सभी आरोपियों को आज अदालत में पेश कर सभी आरोपियों को नीमका जेल भेज दिया गया है।

Sharing Is Caring
Shafi-Author

Shafi Shiddique