Post

हरियाणा के सीएम ने नव वर्ष के अवसर पर पुलिस कर्मियों को दी ये सौगात

PNN/Faridabad: जिला फरीदाबाद में बने नवर्निमित मेगा पुलिस हाउसिंग कॉम्प्लेक्स के उद्घाटन करने के बाद माननीय मुख्यमंत्री ने फरीदाबाद जिले के पुलिसकर्मियों को आवासीय सौगात के साथ-साथ हरियाणा पुलिसकर्मचारियों को दी कई सौगात।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने लगभग 65 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित 384 घरों को पुलिस कर्मियों को समर्पित किया।

उन्होंने पुलिसकर्मियों को अपनी कार्यशैली और व्यवहार में और सुधार लाने का आग्रह किया ताकि हरियाणा पुलिस को देश का सर्वश्रेष्ठ पुलिस बल बनाया जा सके।

मनोहर लाल ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि एएसआईए एसआई और इंस्पेक्टरों सहित एनजीओज़ को 4000 रुपये वर्दी भत्ता दिया जाएगा। कांस्टेबल और हेड कांस्टेबल को 3000 रुपये वर्दी भत्ते के रुप में प्रदान किये जाएगे।

उन्होंने सभी पुलिस अधिकारियों को मोबाइल सुविधा प्रदान करने के लिए पुलिस विभाग में कॉलर्स यूजर ग्रुप (सीयूजी) बनाने की घोषणा करते हुए कहा कि यह सीयूजी नंबर सभी को दिया जाएगा और बिल का भुगतान पुलिस विभाग करेगा।

उन्होंने आगे कहा की जिन पुलिसकर्मियों की सर्विस 30 साल हो गई हो और एग्जम्पटी सब-इंस्पेक्टर (ईएसआई) के पद है। उन्हें अब रिटायरमेंट से 6 महीने पहले आनरेरी इंस्पेक्टर बनाया जाएगा।

उन्होंने पुलिसकर्मियों की दी जाने वाली राशन मनी को भी 600 रुपये से बढाकर 1000 रुपये प्रति माह करने की घोषणा की।

उन्होंने कहा कि महिला पुलिसकर्मियों के शिशुओं व छोटे बच्चों की देखभाल के लिए क्रेच की व्यवस्था की जाएगी और महिला पुलिसकर्मियों के लिए कार्यालयों में जहां जरुरत होगी चेंजिंग रूम की सुविधा भी उपलब्ध करवाई जाएगी।

इसके अलावा, साल के मध्य में स्थानांतरण के मामले में, पुलिस कर्मी 31 मार्च तक अपने पूर्ववर्ती जिले या नए स्थान का मकान किराया भत्ता क्लेम सकता है।

उन्होंने पुलिसकर्मियों के लिए अतिरिक्त आवास के निर्माण के लिए हुडको के माध्यम से पुलिस हाउसिंग कॉर्पोरेशन को 1050 करोड़ रुपये का अतिरिक्त फंड प्रदान करने की भी घोषणा की, इससे पुलिस आवास की संतुष्टि का स्तर और बढ़ेगा।

इससे पहले, निगम को 550 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की गई थी जिसके द्वारा विभिन्न जिलों में 3060 घरों का निर्माण विभिन्न स्तर पर जारी है।

इसके अतिरिक्त हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने पुलिस कर्मियों को नए साल का तोहफा देते हुए उनके कल्याण के लिए सरकार द्वारा दी जा रही मैचिंग ग्रांट की राशि 4 करोड रुपये से बढाकर 6 करोड रुपये प्रतिवर्ष करने सहित कई अन्य घोषणाएं भी की।

माननीय मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान समय में मृतक कर्मचारियों के आश्रिता को मासिक वितीय सहायता दी जा रही है जो कि Allowance काट कर last pay drawn होती है अतः पुलिस विभाग का प्रस्ताव है कि उसकी जगह आश्रित को नौकरी दी जाए। जिस संबंध में प्रस्ताव मंजूर कर दिया गया है यह लागू करने के लिये मुख्य सचिव, हरियाणा को भेजा जायेगा।

उन्होने कहा कि मुठभेड में शहीद होने वाले पुलिस अधिकारी/कर्मचारी के आश्रित परिवार को मिलने वाली राशी 10 लाख रूपये को बढाकर 30 लाख किया गया है एवं गंभीर रूप से घायल होने पर 5 लाख से बढाकर 15 लाख रूपये किया गया है।

उन्होंने कहा कि भारत सरकार के आदेश अनुसार सभी राज्य के सेवारत व सेवानिवृत पुलिस अधिकारियों/कर्मचारियों को केन्द्रीय पुलिस कैन्टीन की सुविधा उपलब्ध करवाई गयी है। इसी आधार पर हरियाणा पुलिस विभाग द्वारा विभिन्न पुलिस लाईनों/परिसरों में कुल 20 पुलिस कैन्टीनों की स्थापना की गई है। जो हरियाणा में स्थित अर्धसैनिक बलों की मास्टर कैन्टीनों से सामान लेकर पुलिस कर्मचारियों को उपलब्ध करवाती हैं। इस सामान पर वैट से छूट मिलती थी लेकिन मास्टर कैंटीनों द्वारा जी.एस.टी में छूट देनी बन्द कर दी गई है अतः पुलिस विभाग के इस प्रस्ताव को मंजूरी के लिए आबकारी एवं कराधान विभाग को भेजा गया है।

मनोहर लाल ने कहा कि पुलिस विभाग में बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के साथ-साथ पुलिसकर्मियों के मनोबल को बढ़ाने के लिए कई कदम उठाए गए हैं, इसके साथ ही अच्छा काम एवं अच्छा व्यवहार करने वाले पुलिस कर्मचारियों को सम्मानित भी किया जाएगा।

इस अवसर पर बोलते हुए, अतिरिक्त मुख्य सचिव, गृह, एस.एस. प्रसाद ने मुख्यमंत्री को इस तरह के मेगा पुलिस आवास परिसर को पुलिसकर्मियों को समर्पित करने के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने स्मार्ट पुलिसिंग पर भी बल दिया।

पुलिस महानिदेशक, (डीजीपी) बी.एस संधू एवं पुलिस आयुक्त फरीदाबाद ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि इन 384 घरों का निर्माण हरियाणा पुलिस हाउसिंग कॉर्पोरेशन के माध्यम से लगभग 65 करोड़ रुपये की लागत से किया गया है।
संधू ने राज्य पुलिस बल में पारदर्शी भर्ती प्रक्रिया सुनिश्चित करने के लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद किया।

उन्होंने कहा कि इस साल हुई 4225 सिपाहियों की भर्ती में लगभग 2600 पुलिसकर्मी या तो स्नातकोत्तर या स्नातक हैं।

उन्होंने कहा कि अगले साल पुलिस विभाग में लगभग 7000 और पदों पर भर्ती की जाएगी।

डीजीपी ने पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों से वर्ष 2019 में जनता के साथ बेहतर व्यवहार करने का भी आग्रह किया। इस अवसर पर उन्होंने पुलिस कर्मियों के हित में कल्याणकारी निर्णय लेने के लिए मुख्यमंत्री का धन्यवाद भी किया।

हरियाणा पुलिस हाउसिंग कॉर्पोरेशन के अध्यक्ष और निर्देशक राय ने इस अवसर पर धन्यवाद भाषण प्रस्तुत किया।
पुलिस आयुक्त ने मनोहर लाल खटटर, पुलिस महानिदेशक हरियाणा बी.एस. संधू एवं कार्यक्रम में पधारे अन्य गण मान्य व्यक्त्यिों का धन्यवाद किया।

इस मौके पर मंच का संचालन सुप्रसिद्ध राष्ट्रीय कवि दिनेश रघुवंशी ने किया।

इस अवसर पर कृषि और किसान कल्याण मंत्री ओम प्रकाश धनखड़, उद्योग मंत्री विपुल गोयल, विधायक सीमा त्रिखा, नागेंद्र भड़ाना, मूलचंद शर्मा और टेक चंद शर्मा, महानिदेशक पुलिस (मुख्यालय) केके मिश्रा, महानिदेशक (अपराध) पी.के. अग्रवाल, एडीजीपी (कानून व्यवस्था) मोहम्मद अकील, अनिल राव एडीजीपी गुप्तचर विभाग, पुलिस आयुक्त संजय कुमार, हनीफ कुरैशी आइजीपी भौण्डसी, नितिका गहलोत पुलिस उपायुक्त मुख्यालय, लोकेंद्र कुमार पुलिस उपायुक्त सेंट्रल, विक्रम कपूर पुलिस उपायुक्त एनआईटी व अन्य वरिष्ठ अधिकारी सहित हरियाणा पुलिस विभाग के सभी जिला प्रमुख अन्य अधिकारीध् कर्मचारी भी उपस्थित रहे ।

Sharing Is Caring
Shafi-Author

Shafi Shiddique