Post

“मातृत्व वंदना” योजना के बारे में जाने महिलाएं, मिलेगा ₹5000

PNN/ Faridabad: महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा संचालित प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के तहत जिला स्तरीय सप्ताह मनाया गया। उपायुक्त ने कहा कि मातृत्व वंदना सप्ताह के अंतर्गत सभी आंगनवाड़ी केंद्रों पर विविध कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है तथा साथ ही महिलाओं को इस योजना से जोड़कर उन्हें अधिक से अधिक लाभ प्रदान करने के प्रयास किए गए हैं।
जिला प्रशासन के प्रवक्ता ने बताया कि प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के तहत पहली बार मां बनने वाली महिलाओं को 5000 रुपये की धनराशि प्रदान की जाती है। पंजीकरण कराने के साथ ही गर्भवती महिलाओ को प्रथम किश्त के रूप में 1000 रुपये दिए जाते हैं। प्रसव पूर्व कम से कम एक जांच पूर्ण होने पर दूसरी किस्त मेें 2000 रुपये और बच्चे के जन्म का पंजीकरण होने तथा बच्चे के प्रथम चक्र का टीकाकरण पूरा होने पर तीसरी किश्त में 2000 रुपये दिए जाते हैं। 

उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत भुगतान गर्भवती के बैंक खाते में ही किया जाता है। योजना का लाभ लेने के लिए गर्भवती महिलाएं अपने निकटतम प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, आंगनवाड़ी कार्यकता अथवा मुख्य चिकित्सा अधिकारी के कार्यालय में संपर्क कर सकती हैं। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के तहत ज्यादा से ज्यादा फार्म फीड करने वाली आंगनवाड़ी वर्कर्स व सुपरवाईजर्स को पुरस्कृत किया जाएगा।

कार्यक्रम में उन लाभार्थियों को प्रोत्साहित किया गया जिन्हें प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना स्कीम का लाभ मिल चुका है। इसके तहत उन्हें सेल्फी लेने व अपने अनुभव सबके साथ साझा करने का मौका दिया गया। लाभार्थियों ने योजना का लाभ मिलने पर खुशी जाहिर की तथा सरकार के प्रयासों की सराहना भी की। जागरूकता कार्यक्रमों में एड्स से संबंधित जानकारी देते हूुए बताया कि एड्स एचआईवी वायरस से फैलता है।उन्होंने बताया कि संक्रमित सुई का प्रयोग ना करने बारे जानकारी दी गई तथा एड्स को फैलने से रोकने के संबंध में भी विस्तार से समझाया गया।

जागरूकता कार्यक्रमों में महिलाओं को महिला हेल्पलाइन नं 181 के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। उन्होंने बताया कि हेल्पलाइन नंबर के माध्यम से महिलाओं से संबंधित समस्याओं का उचित समाधान किया जाता है। उन्होंने कहा कि अगर आपको या आपके आस-पास किसी भी महिला को घरेलू हिंसा, यौन शौषण, दहेज उत्पीड़न, दुव्र्यहार इत्यादि की कोई समस्या हो तो आप हेल्पलाइन नं 181 पर फोन कर सकते हैं।

Sharing Is Caring
Shafi-Author

Shafi Shiddique