Post

होली पर एक हुआ मुलायम कुनबा, अखिलेश ने शिवपाल के छुए पैर

PNN India: होली के मौके पर मुलायम कुनबे की दूरियां कम हुई हैं. सैफई में होली कार्यक्रम के दौरान सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव के साथ चाचा शिवपाल सिंह यादव भी नजर आए. शिवपाल ने मुलायम के साथ रामगोपाल के भी पैर छूकर आशीर्वाद लिया. अखिलेश ने चाचा शिवपाल के पैर छूकर आशीर्वाद लिया. पूरा परिवार इस बार होली में शामिल रहा.

दो साल बाद सैफई की होली पर रंगोत्सव की बयार में मुलायम कुनबे की दूरियां कम हुई हैं. सोमवार को प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल सिंह की गैरमौजूदगी तल्खी का संकेत दे रही थी, पर मंगलवार सुबह चाचा शिवपाल ने मंच साझा कर सियासी खेमे में हलचल मचा दी. पैर छूकर आशीर्वाद लिया. यह देख होलिकोत्सव का उत्साह चरम पर पहुंच गया.

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह यादव और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव होली महोत्सव पर सैफ़ई पहुंचे. दोनों सपा नेता के पहुंचते ही सैकड़ों सपाइयों और क्षेत्र वासियों ने गर्मजोशी से उनका स्वागत किया. इस दौरान तमाम समाजवादी लोगों ने नारेबाजी भी की और नारेबाजी में समाजवादी पार्टी जिंदाबाद के नारे लगाए. इस दौरान देखते ही देखते होली मिलन समारोह में सैकड़ों लोगों की भीड़ लग गई.

अखिलेश और मुलायम सिंह यादव ने इस दौरान सपेरों का नाच-गाना देखा, वहीं मुलायम सिंह यादव ने सभी समाजवादियों को गरीबों की मदद करने के लिए अपील की. सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने कहा कि गरीबों के पास अधिक कपड़े नहीं होते है इसलिए हम समाजवादी फूलों की होली खेलते हैं.

इस दौरान मंच पर अचान शिवपाल सिंह यादव नजर आए. होली पर चाचा-भतीजे की बीच दूरियां कम कर दी. कुछ देर बाद पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव राम गोपाल यादव मंच पर आने से लोग की नजरें मंच पर टिक गईं. शिवपाल यादव ने रामगोपाल यादव के पैर छूए. फिर एक साथ सभी मंच पर होली मनाते दिखे.

इस दौरान शिवपाल ने कहा कि 2022 के चुनाव में हम सब एक साथ चुनाव लड़ेंगे. सबको इकट्ठा करेंगे और सभी पार्टियां भाजपा को हराने का काम करेंगे. हमारी पहली प्राथमिकता समाजवादी पार्टी होगी, जिसके साथ हम चुनाव लड़ेंगे.

वहीं अखिलेश यादव ने सबसे पहले सभी लोगो को होली की शुभकामनाएं दीं. साथ ही कहा कि वर्तमान सरकार कुछ भी नहीं कर रही है. भाजपा सरकार रामराज्य लाना चाहती है, रामराज्य बिना समाजवाद के नहीं आ सकता है. समाजवादी सरकार सभी वर्गों के लोगों को साथ लेकर विकास करती है, वहीं भाजपा सरकार सिर्फ धर्म की बात करती है. अखिलेश यादव ने शाहीन बाग का नाम लिए बिना कहा कि जब किसी भी आंदोलन में महिलाओं ने भाग लिया है, वह आंदोलन सफल रहा है. सरकार को नागरिकता संशोधन कानून (CAA) वापस लेना पड़ेगा. योगी सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि गाय को माता मानने वाली सरकार गायों को सड़क पर आवारा घूमता हुआ देख रही है.

अखिलेश यादव के भाषण के दौरान प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष आ गए. शिवपाल यादव को देखते ही वहां मौजूद लोगों ने अखिलेश और शिवपाल के नारे लगाना शुरू कर दिए. शिवपाल यादव ने अपने बड़े भाई मुलायम सिंह यादव के पैर छूकर आशीर्वाद लिया. इसी बीच राज्यसभा सांसद रामगोपाल यादव भी आ पहुंचे. इसके बाद शिवपाल ने रामगोपाल यादव के पैर छुए.

अखिलेश यादव ने कागज दिखाने पर बोलते हुए कहा कि जब नेता जी के पास ही कागज नहीं है तो हमारे पास कहां होंगे? दूसरी ओर योगी आदित्यनाथ पर तंज कसा हुए कहा कि भांग एक हद तक लेना ठीक है इसके बाद अधिक अगर हो गए तो क्या होगा? वहीं आजम खान पर बोलते हुए कहा कि सरकार ने उनके ऊपर जितने भी मुकदमे लगा दिए हैं, हमें न्यायालय पर भरोसा है, सही निर्णय आएगा लेकिन जिस तरह से उन्हें फंसाया गया है, वह ठीक नहीं है.

जैसे ही शिवपाल और अखिलेश के कार्यकर्ताओं ने चाचा भतीजे जिंदाबाद के नारे लगाए, वहीं अखिलेश नाराज होते दिखाई दिए. उन्होंने यह भी इशारा किया कि मैं सबके चेहरे पहचानता हूं. राजनीति की दिशा अलग होती है और यह सब संकेत देते हुए कार्यकर्ताओं की डांट लगा दी. पंडाल में शांति छा गई.

Sharing Is Caring
Shafi-Author

Shafi Shiddique