Post

PNN/ Faridabad: हरियाणा में निजी सेक्टर में 30,000 रुपये तक की 75% नौकरियां हरियाणवियों के लिए रिजर्व

PNN/ Faridabad: हरियाणा में अब निजी क्षेत्र की नौकरियाें में स्थानीय युवाओं को 50 हजार रुपये के बजाय 30 हजार रुपये तक की नौकरियों में 75 फीसद आरक्षण (Job Reservations) मिलेगा। उद्यमियों के दबाव के बाद प्रदेश सरकार ने मार्च में बने ‘हरियाणा स्थानीय उम्मीदवारों को रोजगार अधिनियम’ में बदलाव करते हुए शनिवार को नई अधिसूचना जारी कर दी। पुराने कानून के मुताबिक पहले निजी क्षेत्र में 50 हजार रुपये वेतन तक की नौकरियों पर यह नियम लागू होना था। संशोधित कानून अगले साल 15 जनवरी से प्रभावी माना जाएगा।

व्यवसाय करने या कोई सेवा प्रदान करने के उद्देश्य से वेतन, मजदूरी या अन्य पारिश्रमिक पर दस या अधिक व्यक्तियों को काम पर रखता है, पर लागू होगा।

सभी कर्मचारियों का पंजीकरण जरूरी, अनदेखी पर गिरेगी गाज
नए कानून के तहत सभी नियोक्ताओं को श्रम विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध नामित पोर्टल पर सकल मासिक वेतन या तीस हजार रुपये से अधिक वेतन प्राप्त करने वाले अपने सभी कर्मचारियों को पंजीकृत करना अनिवार्य होगा। सभी नई भर्तियों में ऐसे पदों के लिए, जहां सकल मासिक वेतन या मजदूरी तीस हजार रुपये से अधिक नहीं है, 75 प्रतिशत (शर्त के अधीन) स्थानीय उम्मीदवारों को काम पर रखना होगा। इस अधिनियम के किसी भी प्रावधान का उल्लंघन एक दंडनीय अपराध है।

जेजेपी प्रमुख व हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला का कहना है कि हमने वादा किया था कि निजी क्षेत्र में स्थानीय उम्मीदवारों को 75 प्रतिशत रोजगार सुनिश्चित करेंगे। इसे हमने पूरा कर दिया है। इस अधिनियम को बनाने से पूर्व मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में औद्योगिक संघों, उद्यमियों और अन्य हितधारकों के साथ कई बैठकें की गई और उनके सुझाव लिए गए। अब नए रोजगारों में स्थानीय उम्मीदवारों के लिए 75 प्रतिशत आरक्षण सुनिश्चित हो सकेगा।
सीएम मनोहर लाल का कहना है कि यह एक अभूतपूर्व क्रांतिकारी कदम है जिससे हजारों युवा लाभान्वित होंगे। जहां सरकारी नौकरियां मेरिट पर दी जा रही हैं, वहीं निजी क्षेत्र में अपने राज्य के युवाओं के लिए रोजगार के अवसर सुनिश्चित करना भी बड़ी उपलब्धि है। प्रदेश सरकार का लक्ष्य 2024 तक हरियाणा को बेरोजगारी मुक्त और रोजगार युक्त बनाना है।

यह भी पढ़ें- Aryan Khan Case: समीर वानखेडे की जगह संजय सिंह करेंगे आर्यन खान केस जांच

Sharing Is Caring
Shafi-Author

Shafi Shiddique